PM Kusum Yojana Form : फ़्री सोलर पंप के लिए ऑनलाइन आवेदन शुरू , किसान करें आवेदन

PM Kusum Yojana Form

PM Kusum Yojana Form : भारत सरकार किसानों ( Farmer ) के लिए कई विशेष योजनाएं चलाती है। इसमें कुसुम योजना भी है। इस PM कुसुम योजना ( PM Kusum Yojana ) का उद्देश्य बंजर भूमि का उपयोग करना और किसानों की आय में वृद्धि करना है। इन्हीं योजनाओं में से एक है किसान सौर ऊर्जा ( Solar Energy ) सुरक्षा और उत्थान महा अभियान यानी कुसुम। इस बारे में भारत के कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर का कहना है कि पीएम-कुसुम के तहत 20 लाख किसानों को स्टैंडअलोन सोलर पंप ( Solar Pump ) दिए जाएंगे !

PM Kusum Yojana Form


किसानों ( Farmer ) को बंजर भूमि पर सौर ऊर्जा का उत्पादन करने और अतिरिक्त ऊर्जा  ( Solar Energy )को ग्रिड को बेचने में मदद की जाएगी। सभी उम्मीदवार जो PM कुसुम योजना ( PM Kusum Yojana ) ऑनलाइन आवेदन करने के इच्छुक हैं, फिर आधिकारिक अधिसूचना डाउनलोड करें और सभी पात्रता मानदंड और आवेदन प्रक्रिया को ध्यान से पढ़ें। हम ” कुसुम योजना 2021 ” के बारे में संक्षिप्त जानकारी प्रदान करेंगे ( Solar Pump )

किसान ऊर्जा सुरक्षा एवं उत्थान अभियान PM कुसुम योजना ( PM Kusum Yojana ) के मुताबिक 2022 तक देश में तीन करोड़ पंप ( Solar Pump ) बिजली या डीजल की जगह सौर ऊर्जा ( Solar Energy ) से चलाए जाएंगे. कुसुम योजना पर कुल 1.40 लाख करोड़ रुपये खर्च होंगे। यूएसपीसी की स्थापना से किसानों ( Farmer ) की आय में वृद्धि होगी, जो कि पीएम-कुसुम योजना  का उद्देश्य है।

हम बात कर रहे हैं PM कुसुम योजना ( PM Kusum Yojana )  की, जिसका पूरा नाम किसान ऊर्जा सुरक्षा और उत्थान महा अभियान यानी कुसुम है। इस योजना का उद्देश्य बेकार पड़ी भूमि का उपयोग कर किसानों ( Farmer ) की आय में वृद्धि करना है। इस योजना के तहत किसानों को बंजर भूमि पर सोलर पंप ( Solar Pump ) लगाने के साथ अतिरिक्त बिजली ( Solar Energy ) की आपूर्ति करने में मदद की जाएगी।

सबसे बड़ी बात यह है कि PM कुसुम योजना ( PM Kusum Yojana ) में ये सोलर पंप ( Solar Pump ) 90% सब्सिडी पर उपलब्ध होंगे। अगर कोई किसान ( Farmer ) अभी तक इस प्लान के बारे में नहीं जानते हैं तो आइए आज हम आपको इस प्लान के बारे में बताते हैं और साथ ही बताते हैं कि आप इस योजना ( Solar Energy ) का लाभ कैसे उठा सकते हैं। उसके बारे में भी बताएंगे।

ऐसे करें ऑनलाइन आवेदन ( PM Kusum Yojana Form )

  1. किसान को सबसे पहले कुसुम योजना की अधिकारिक वेबसाइट mnre.gov.in पर जाना होगा !
  2. अब इस वेबसाइट के मेनू में ” ऑनलाइन आवेदन ”  पर क्लीक करें !
  3. इसके बाद खुलने वाले अगले पेज पर मांगी गयी सभी जानकारी भर कर सबमिट कर दे !
  4. इस प्रकार किसान आसानी से पीएम कुसुम योजना( Solar Pump )  में आवेदन कर सकते है !

किसान सावधान

मंत्रालय द्वारा सभी हितधारक किसानों ( Farmer ) कों को एतद्द्वारा सूचित किया जाता है कि PM कुसुम योजना ( PM Kusum Yojana ) को संबंधित राज्यों में कार्यान्वयन एजेंसियों के माध्यम से लागू किया जा रहा है। ( Solar Pump ) ऐसी एजेंसियों का विवरण एमएनआरई की वेबसाइट mnre .gov.in पर उपलब्ध है। एमएनआरई ( Solar Energy ) अपनी किसी भी वेबसाइट के माध्यम से योजना के तहत लाभार्थियों को पंजीकृत नहीं करता है !

और इसलिए योजना के लिए PM कुसुम योजना ( PM Kusum Yojana )के पंजीकरण पोर्टल होने का दावा करने वाला कोई भी पोर्टल संभावित रूप से भ्रामक और कपटपूर्ण है। कोई भी संदिग्ध कपटपूर्ण वेबसाइट, यदि किसी किसान ( Farmer ) के द्वारा देखी जाती है, तो एमएनआरई ( Solar Pump ) को सूचित किया जा सकता है।केंद्र सरकार किसानों को दो तरह से फायदा पहुंचाएगी।

एक तो उन्हें सिंचाई के लिए मुफ्त बिजली मिलेगी और दूसरी अगर वे अतिरिक्त बिजली बनाकर ग्रिड को भेजेंगे तो वह भी कमा लेंगे। यदि किसी किसान ( Farmer ) के पास बंजर भूमि है, तो वह इसका उपयोग सौर ऊर्जा ( Solar Energy ) उत्पादन के लिए कर सकता है। इस PM कुसुम योजना ( PM Kusum Yojana ) से उन्हें बंजर भूमि से आय भी होगी। केंद्र सरकार की कुसुम योजना ( Solar Pump ) के तहत राजस्थान के 623 किसान 722 मेगावाट सौर ऊर्जा का उत्पादन करेंगे।

पीएम कुसुम योजना

इस PM कुसुम योजना ( PM Kusum Yojana ) के तहत, जो बंजर और अनुपयोगी भूमि में सौर संयंत्र स्थापित करके सौर ऊर्जा ( Solar Energy ) का उत्पादन कर सकती है, किसान अपनी अनुपयोगी या बंजर भूमि पर 0.5 से 2 मेगावाट क्षमता के सौर ऊर्जा संयंत्र ( Solar Pump ) स्थापित कर सकते हैं। इससे किसानों को उनकी बंजर या अनुपयोगी भूमि से 25 वर्षों तक नियमित आय प्राप्त होगी। इससे राज्य के किसानों ( Farmer ) को दिन में कृषि कार्य के लिए आसानी से बिजली मिल सकेगी.

LATEST POSTS

Leave a Comment

Your email address will not be published.