PM Kisan: खाते में अबतक नहीं आए 2000 रुपये? इस नंबर पर तुरंत करें फोन, मिल जाएंगे पैसे

PM Kisan

कई किसान ऐसे भी हैं जिन्हें किस्त के पैसे अभी तक नहीं मिले हैं. ऐसे में सरकार द्वारा जारी हेल्पलाइन नंबर पर शिकायत कर सकते हैं.

PM Kisan नई दिल्ली. पीएम किसान (PM Kisan Samman Nidhi Yojana) योजना की आठवीं किस्त देशभर के करोड़ों किसानों के खाते में भेज दी गई है. इस योजना के तहत 9.5 करोड़ किसान परिवारों के खातों में 19,000 करोड़ रुपये ट्रांसफर किए गए. बता दें कि PM Kisan योजना के तहत छोटे और सीमांत किसानों के परिवार को हर साल 6000 रुपये 3 किस्तों में दिए जाते हैं. यह पैसा सीधे किसानों के खाते में ट्रांसफर किया जाता है. हालांकि, कुछ किसान ऐसे भी हैं जिन्हें किस्त के पैसे अभी तक नहीं मिले हैं. ऐसे में सरकार द्वारा जारी हेल्पलाइन नंबर पर शिकायत कर सकते हैं. इसके अलावा क्षेत्र के लेखपाल और कृषि अधिकारी से भी संपर्क कर सकते हैं.

इन सब की इनफार्मेशन हिंदी में केवल आप के लिए आज ही क्लिक करे

Fast Job Search / Daily Current Affairs / Education News / Exam Answer Keys / Exam Syllabus & Pattern / Exam Preparation Tips / Education And GK PDF Notes Free Download / Latest Private Sector Jobs / admit card / Results Live

यहां करें शिकायत

PM किसान योजना से जुड़ी किसी भी जानकारी को प्राप्त करने या समस्या होने पर शिकायत करने के लिए हेल्पलाइन नंबर और ईमेल आईडी मौजूद है. पीएम किसान हेल्पलाइन नंबर 155261 है.इसके अलावा पीएम किसान टोल फ्री नंबर 18001155266 और पीएम किसान लैंडलाइन नंबर 011-23381092, 011-24300606 भी है. पीएम किसान की एक और हेल्पलाइन 0120-6025109 और ई-मेल आईडी pmkisan-ict@gov.in है.

ये भी पढ़ेंRajasthan Lockdown Update: कोरोना की वजह से राजस्थान में 21 जून तक बढ़ाई गई धारा-144 की अवधि

इस कारण अटक जाते हैं किस्त के पैसे

कभी-कभी तो सरकार की तरफ से अकाउंट में पैसे ट्रांसफर कर दिए जाते हैं, लेकिन किसानों के अकाउंट में नहीं पहुंचते हैं. इसकी सबसे वजह आपके आधार, अकाउंट नंबर और बैंक अकाउंट नंबर में गलती का होना हो सकता है. इसे सुधारने के लिए किसान रिकॉर्ड में सुधार या तो कॉमन सर्विस सेंटर (CSC) पर जा सकते हैं. फिर पीएम किसान की ऑफिशियल वेबसाइट https://pmkisan.gov.in/ पर विजिट कर सकते हैं.

Leave a Comment

Your email address will not be published.