National Doctor’s Day 2021: क्या आप जानते हैं देवताओं के डॉक्टर धन्वन्तरि के बारे में?

National Doctors Day 2021

National Doctors Day 2021: धन्वन्तरि को आयुर्वेद (Ayurved)और वैद्यक शास्त्र का प्रणेता भी माना गया है. नेशनल डॉक्‍टर्स डे पर देवताओं के वैद्य (Deity Doctor) धन्वन्तरि के बारे में जानें…

National Doctors Day 2021: आज नेशनल डॉक्‍टर्स डे हैं. डॉक्‍टर्स को धरती का भगवान माना जाता है और कोरोना काल (Corona Time) में जिस तरह से कई डॉक्‍टर्स ने मरीजों की सेवा करते हुए अपनी जान तक गंवा दी है. इससे ये सिद्ध भी हो जाता है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि देवताओं के डॉक्टर कौन हैं? पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, धन्वन्तरि (Dhanvantari) देवताओं के वैद्य (Deity Doctor Dhanvantari) हैं. धन्वन्तरि का अवतरण समुद्र मंथन के दौरान हुआ था और मान्यता है कि वो भगवान विष्णु के अंश अवतार हैं. धन्वन्तरि को आयुर्वेद (Ayurved) और वैद्यक शास्त्र का प्रणेता भी माना गया है. आइए नेशनल डॉक्‍टर्स डे पर जानते हैं देवताओं के डॉक्टर धन्वन्तरि के बारे में…

इन सब की इनफार्मेशन हिंदी में केवल आप के लिए आज ही क्लिक करे

Fast Job Search / Daily Current Affairs / Education News / Exam Answer Keys / Exam Syllabus & Pattern / Exam Preparation Tips / Education And GK PDF Notes Free Download / Latest Private Sector Jobs / admit card / Results Live

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, धन्वन्तरि आयु, स्वास्थ्य, आरोग्य और तेज प्रदान करने वाले देवता हैं. मान्यता है कि धन्वन्तरि का जन्म धनतेरस के दिन समुद्र मंथन से हुआ था. धन्वन्तरि अमृत कलश लेकर प्रकट हुए थे.

यह भी पढ़ें – Career with Graduation: डिग्री के साथ कमाई भी, जानें ऐसे 10 बेहतर तरीके

धन्वंतरि हाथ में अमृत कलश लेकर बाहर आए तो उन्होंने प्रार्थना करते हुए कहा कि इस लोक में क्या काम और स्थान है, यह बता दें? अभी तुमको धन्वंतरि प्रथम के नाम से जाना जाएगा. लेकिन यज्ञ का भाग तो पहले ही देवताओं में बंट चुका है. ऐसे में देवताओं के पश्चात उत्पन्न होने के कारण आपको देव नहीं माना जाएगा.

विष्णु ने आगे कहा कि जब तुम्हारा अगला द्वापर युग में होगा तो तुम धन्वंतरि द्वितीय के नाम से पूरे विश्व में जाने जाओगे और देवता भी कहलाओगे. पूजा में तुम्हारी भी अर्चना होगी और तुम आयुर्वेद का अष्टांग विभाग भी करोगे.

द्वापर युग में काशीपति धन्व ने पुत्र प्राप्ति के लिए घोर तपस्या की जिसपर शिवजी भगवान से उनको पुत्र के रूप में धन्वंतरि को दिया. धन्वंतरि ने बड़े होगा ऋषि भारद्वाज से आयुर्वेद विद्या ग्रहण की.

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, भगवान धन्वंतरि की पूजा करने के लिए रोज नित्यकर्म और स्नान निपटाकर पूजन करने से वैद्यों को चिकित्सा कार्य में निश्चित रूप से यश प्राप्त होता है और शरीर को रोगों से मुक्ति मिलती है .

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं मान्यताओं पर आधारित हैं. chamundaemitra.com इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

Leave a Comment

Your email address will not be published.