Anant Chaturdashi 2022-23: A Celebration of Faith and Traditions

Anant Chaturdashi 2022-23 -: अनंत चतुर्दशी, जिसे अनंत चौदस या अनंत पद्मनाभ व्रत के नाम से भी जाना जाता है, एक महत्वपूर्ण हिंदू त्योहार है जो बड़े उत्साह और भक्ति के साथ मनाया जाता है। यह शुभ दिन हिंदू कैलेंडर में, आमतौर पर अगस्त या सितंबर में, भाद्रपद महीने के शुक्ल पक्ष के 14वें दिन पड़ता है। 2022 में अनंत चतुर्दशी 19 सितंबर को मनाई गई और 2023 में यह 8 सितंबर को मनाई गई। यह त्योहार विशेष रूप से महाराष्ट्र और गुजरात सहित भारत के पश्चिमी क्षेत्रों में अत्यधिक सांस्कृतिक और धार्मिक महत्व रखता है। आइए वर्ष 2022 और 2023 के लिए अनंत चतुर्दशी से जुड़े महत्व और अनुष्ठानों के बारे में जानें।

The Significance of Anant Chaturdashi

अनंत चतुर्दशी मुख्य रूप से भगवान अनंत को श्रद्धांजलि देने के लिए मनाई जाती है, जो भगवान विष्णु का एक रूप हैं। “अनंत” शब्द का अर्थ ही शाश्वत या अनंत है, और यह दिन परमात्मा के शाश्वत गुणों को समर्पित है। भक्तों का मानना है कि इस त्योहार को मनाने से वे लंबे और समृद्ध जीवन का आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं। यह वह दिन है जब व्यक्ति और परिवार सुरक्षा और सौभाग्य के प्रतीक के रूप में अपनी कलाई पर पवित्र धागा बांधते हैं, जिसे अनंत सूत्र के नाम से जाना जाता है।

Rituals and Traditions

Tying the Ananta Sutra: अनंत चतुर्दशी के केंद्रीय अनुष्ठान में दाहिनी कलाई पर एक पवित्र धागा बांधना शामिल है। यह धागा अक्सर लाल या पीले रंग का होता है और इसे पूजा-पाठ और मंत्र पढ़ते समय बांधा जाता है। ऐसा माना जाता है कि यह पहनने वाले को बुरे प्रभावों से बचाता है।

Fasting: भक्त अक्सर इस दिन उपवास रखते हैं, केवल विशिष्ट खाद्य पदार्थों का सेवन करते हैं। कई लोग गेहूं खाने से परहेज करते हैं और अपने भोजन के हिस्से के रूप में विभिन्न प्रकार के अनाज और सब्जियों का चयन करते हैं।

Worship of Lord Vishnu: भक्त भगवान विष्णु के प्रति सम्मान व्यक्त करते हैं और घर या मंदिरों में प्रार्थना करते हैं। विशेष पूजाएँ आयोजित की जाती हैं, और भगवान विष्णु की मूर्तियों को फूलों और अन्य प्रसादों से सजाया जाता है।

Reciting the Anant Chaturdashi Vrat Katha: अनंत चतुर्दशी व्रत कथा, एक पवित्र कथा, अनुष्ठान के दौरान पढ़ी जाती है। यह त्योहार के महत्व और उससे जुड़ी पौराणिक कथा का वर्णन करता है।

Charity:  कम भाग्यशाली लोगों को दान देना अनंत चतुर्दशी का एक अनिवार्य पहलू है। भक्त अक्सर जरूरतमंद लोगों को कपड़े, भोजन और अन्य आवश्यक चीजें दान करते हैं।

The Legend of Anant Chaturdashi

अनंत चतुर्दशी हिंदू पौराणिक कथाओं की एक सम्मोहक कथा से जुड़ी है। ऐसा कहा जाता है कि भगवान कृष्ण की रानी रुक्मिणी ने दुष्ट राक्षस बाणासुर के साथ युद्ध के दौरान उनकी रक्षा के लिए उनकी कलाई पर एक पवित्र धागा बांधा था। इस घटना के सम्मान में, भक्त अपनी सुरक्षा और कल्याण के लिए भगवान विष्णु का आशीर्वाद लेने के लिए अनंत सूत्र बांधते हैं।

Conclusion

अनंत चतुर्दशी सिर्फ एक धार्मिक त्योहार नहीं है; यह आस्था, परंपराओं और भगवान विष्णु के शाश्वत आशीर्वाद का उत्सव है। 2022 और 2023 में यह उत्सव भारत की सांस्कृतिक संस्कृति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बना रहेगा। यह हमें सुरक्षा, कल्याण और हिंदू धर्म के शाश्वत मूल्यों के महत्व की याद दिलाता है। जैसे ही भक्त पवित्र धागा बांधने और प्रार्थना करने के लिए एक साथ आते हैं, एकता और भक्ति की भावना चमकती है।

Read Also – Latest Govt Jobs Online

अनंत चतुर्दशी आपके और आपके प्रियजनों के लिए वर्ष 2022 और 2023 में और आने वाले कई वर्षों में अनंत आशीर्वाद और खुशियाँ लेकर आए।

LATEST POSTS

Bollywood cars news Current Affairs GK Gossip govt jobs GOVT JOBS NEWS GOVT JOBS ONLINE Jodhpur News jodhpur news hindi me jodhpur news hindi today jodhpur news in hindi jodhpur news live in hindi jodhpur news paper hindi jodhpur news today in hindi jodhpur news today in hindi live jodhpur news video jodhpur rain news today in hindi jodhpur today live news in hindi jodhpur weather news in hindi Latest News Local News news News Online News Tags24 न्यूज़ जोधपुर News Tagsaaj tak hindi news jodhpur pipar city jodhpur news hindi private jobs private jobs online rajasthan jodhpur latest news in hindi rajasthan jodhpur news rajasthan patrika jodhpur hindi news paper rajasthan patrika jodhpur today news in hindi rajasthan patrika today news paper in hindi jodhpur suhani chopra jodhpur news in hindi Suncity News today dainik bhaskar news jodhpur in hindi e paper today news in hindi rajasthan jodhpur zee rajasthan jodhpur news जोधपुर का न्यूज़ जोधपुर न्यूज़ आज जोधपुर न्यूज़ आज तक जोधपुर न्यूज़ वीडियो जोधपुर हिंदी न्यूज़ वीडियो जोधपुर

Leave a Comment